Friday, 5 February 2016

मासूम

दो चोटियाँ सवारे
अपने नखरों में चूर,
हँसी के ठहाके
मौजो से भरपूर,
जाते देखा तुझे
हमसे बड़ी दूर
जब ए जिंदगी तूने हलकेसे
मौत का हाथ थाम लिया था...

-बागेश्री

No comments:

Post a Comment