Sunday, 12 January 2014

कभी कभी मेरे दिल में (3)

3.

कभी कभी मेरे दिल में, खयाल आता है
के तू बन ज़ाए वोह बंदिश, जिसे मैने गाना चाहा,
मैं पिरोंदू हर वोह सांस लफ्जोंमें, जो मैंने आख़री पलों के लिएँ बचाकर रखी थी..   
कुछ इस तरह सूरों में समा ज़ाऊ
के पता ना चले जो बिखरी पडी जमीं पर वोह सरगम थी या सांसे...

कभी कभी मेरे दिल में...

- बागेश्री

Featured post

मला भेटलेली गाणी: अप्सरा आली

.... चित्रलेखा लगबगीनं ह्या दालतानातून त्या दालनात, दिसणार्‍या प्रत्येक दास- दासीला काही ना काही अखंड सूचना देत चालली होती. आजचा तिच...